technology

इंटरनेट क्या है ? इंटरनेट का अविष्कार कब हुआ ?

इंटरनेट 2 शब्दों को मिला कर बना है Enter Network यानी की नेटवर्क में प्रवेश करना इसी के शार्ट फॉर्म के रूप में एंटर नेटवर्क को इंटरनेट कहा जाता है। इंटरनेट यानी की आपस में जुड़े हुए बहुत से नेटवर्क का समूह, जिसमे हम भी जुड़ कर उनके द्वारा दी हुई जानकारी प्राप्त कर सकते है। internet kya hai ?  internet  को थोड़ा और डिटेल में समझने के लिए निचे दिए हुए पॉइंटो को थोड़ा ध्यान से पढ़ेगे

Contents hide
3 इंटरनेट का आविष्कार कब और किसने किया ? (internet ka avishkar kab or kisne kiya?)

 इंटरनेट क्या है ? (internet kya hai ?)

  • इंटरनेट यानी की नेटवर्क अब नेटवर्क में बहुत सारी वेबसाइट जुडी होती है जिससे इनफार्मेशन बनती है। हर वेबसाइट के आगे triple www होता है जिसका मतलब है world wide web यानी की इंटरनेट से जुडी वेबसाइट पुरे विश्व में कही पर भी ओपन की जा सकती है।

 जानिए — world wide web kya hai ?

  • इंटरनेट का सबसे बड़ा काम है सभी देश और विस्तार के नेटवर्क को एकदूसरे से जोड़ना इसी तरह जुड़ने के बाद सभी नेटवर्क की इनफार्मेशन आपस में एकदूसरे के साथ लिंक हो जाती है जिस वजह से किसी भी इनफार्मेशन को कही से भी एक्सेस किया जा सकता हैपहले के मुकाबले आज इंटरनेट कही गुना बड़ा हो गया है और भविष्य में भी यह और ज्यादा बड़ा होने वाला है। इंटरनेट को बड़ा इंटरनेट चलाने वाले करते है, हमारे भारत देश में 1995 से इंटरनेट चालु हुआ था और आज भारत देश इंटरनेट यूज़र्स में दुनिया का सबसे बड़ा दूसरा देश है।

 इंटरनेट की फुल फॉर्म ?

interconeccted network .. इंटरनेट की फुल फॉर्म होती है जो की बहुत ही बडा network  होता है
इसलिए इंटरनेट को web servers wordwide भी कहाँ जाता है और इंटरनेट को world wide web कहां जाता है इस  internet में बहुत बड़े बड़े private और public organizations, school ,और  college , reserch centers , hospital etc और भी ऐसी service शामिल है

इंटरनेट क्या है ?(What Is Internet In Hindi?)

इंटरनेट का आविष्कार कब और किसने किया ? (internet ka avishkar kab or kisne kiya?)

जैसा की आप ने पढ़ ही लिया होगा की internet kya hai ? अब बात आती है की इंटरनेट की ख़ोज (अविष्कार ) किसने की ? इंटरनेट की कहानी बड़ी मजेदार है। इसकी शुरुआत एक लड़ाई की वजह से हुई है। 4 अक्टूबर 1957 को पृथ्वी पर एक अद्भूत घटना घटी जिसने पूरी दुनिया को बदलने की एक राह दिखा दी। इस दिन सोवियत संघ ने दुनिया का पहला मैन मेड यानि इंसानों द्वारा बनाया गया सैटेलाइट लॉन्च किया गया था। दुनिया के पहले सैटेलाइट का नाम Sputnik था। ये ख़बर काफी तेजी से पूरी दुनिया में फैल गई।

इंटरनेट का अविष्कार किसी व्यक्ति से ज्यादा समस्या ने किया है। जी हां 1957 के समय में कुछ समस्या का समाधान करने के लिए इंटरनेट को बनाया गया था जिससे आपस में जुड़े रहे और जानकारी प्राप्त होती रहे लेकिन कुछ समय बाद रोबर्ट इ. कहं और विन्ट सिर्फ द्वारा इंटरनेट को सरकारी विभागों के लिए बनाया गया। इस तरह से ये दो इंटरनेट के मालिक कहे जाते है। अब जानते है इंटरनेट की हिस्ट्री के बारे में।  अब हम पढ़ेगे की इंटरनेट का avishkar कब हुआ ?

1969 में सबसे पहले इंटरनेट का अविष्कार डिपार्टमेंट ऑफ़ डिफेन्स (DOD) द्वारा किया गया था। यह इंटरनेट अमेरिकी रक्षा विभाग में नेटवर्क द्वारा सूचनाओं का आदान प्रदान करने के लिए बनाया गया था।

इंटरनेट पर सुचना का आदान प्रदान करने के लिए ट्रांसमिशन कंट्रोल प्रोटोकॉल (TCP) या इंटरनेट प्रोटोकॉल (IP) का प्रयोग किया जाता है।
इसी नेटवर्क सिस्टम को और भी दूसरे सरकारी विभागों में कार्यरत किया गया और नेटवर्क सिस्टम को सुधारा भी गया। 1980 तक ऐसे ही सरकारी विभागों में इंटरनेट चलता रहा अब तक जनता के लिए इंटरनेट नहीं था।

1980 के बाद माइक्रोसॉफ्ट के फाउंडर बिल गेट्स ने अपने IBM कम्प्यूटर्स बनाये जिसमे उन्हें जरुरत थी इंटरनेट सिस्टम की तो इस तरह बिल गेट्स द्वारा सबसे पहले माइक्रोसॉफ्ट कंप्यूटर में इंटरनेट की सुविधा लगायी गयी।
इसके बाद 1984 में एप्पल कंपनी ने इंटरनेट को ज्यादा अच्छे से यूज़ करने के लिए फिर से अपने कंप्यूटर में कुछ बदलाव किये और एक नया इंटरनेट कंप्यूटर लांच किया।

इन्टरनेट का सबसे ज्यादा और आसानी से इस्तेमाल तो तब होने लगा था जब 1989 टिम बेर्नर ली ने इंटरनेट पर संचार को सरल बनाने के लिए ब्राउज़रों, पन्नों और लिंक का उपयोग कर के वर्ल्ड वाइड वेब बनाया (www).

1990 के बाद इंटरनेट को आसानी से चलाने के लिए मार्किट में 3-4 सर्च इंजन आये लेकिन एक भी ठीक तरह से चल नहीं पाया उसके बाद 1998 में गूगल ने अपना सर्च इंजन लॉन्च किया और तबसे लेकर आज तक गूगल ने अपने यूजर को इंटरनेट का बढ़िया अनुभव दिया है।
गूगल के आने के बाद इसी तरह इंटरनेट का आविष्कार इंटरनेट का विकास में बदलता गया। पहले बहुत कम लोग इंटरनेट पर थे पर फिर फेसबुक, यूट्यूब, याहू ये सब आने के उसके बाद ज्यादा से ज्यादा लोग इंटरनेट से जुड़ते गए।

 

इंटरनेट का उपयोग  (internet ka upyoog )

  • चिकित्सा विज्ञान के क्षेत्र में [Internet uses for Medical field] -: इंटरनेट के माध्यम से चिकित्सा क्षेत्र में भी बहुत आसानी हो गयी हैं, जैसे -:
  • किसी मरीज का रिकॉर्ड आसानी से मिल जाता हैं और उसके उपचार में सुविधा होती हैं.
  • हॉस्पिटल का मैनेजमेंट आसान हो जाता हैं
  • विदेशों के चिकित्सकों द्वारा घर बैठे कम खर्च में परामर्श प्राप्त करना संभव हो पाया हैं.
  • नये आविष्कारों में भी मदद मिली हैं, आदि.

 

  • खबरों की जानकारी [Information about News] –: संसार के सभी समाचार पत्र, मेग्ज़िन्स और जर्नल्स इंटरनेट पर आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं. आपको जिस भी संबंध में जानकारी चाहिए, वह टाइप कीजिये और आपके सामने वह खबर अथवा वह जर्नल उपलब्ध हो जाएगा.

 

  • ऑनलाइन अथवा नेट बैंकिंग (Internet online banking) -: यदि आज हमें बैंक का कोई काम हैं, तो उसके लिए हमें बैंक में जाकर लाइन में खड़े रहकर प्रतीक्षा करने की जरुरत नहीं हैं. हमें जरुरत हैं तो बस इस बात की कि हम ऑनलाइन बैंकिंग या नेट बैंकिंग की सुविधा अपने खाते [अकाउंट] में शुरू कराए और फिर इंटरनेट के माध्यम से हमारा बैंक संबंधी कोई भी काम, जैसे -: पैसे जमा करना, फण्ड ट्रान्सफर करना, बिल जमा करना, रिचार्ज करना, आदि घर बैठे आसानी से हो जाएगा.

 

  • ई – कॉमर्स (E-Commerce) -: अब तो इंटरनेट का उपयोग बहुत ही बड़े स्तर पर व्यापार व्यवसाय में भी होने लगा हैं. बड़ी – बड़ी कम्पनियाँ अपने विभिन्न देशों में फैले बिज़नेस के फैसले लेने के लिए वीडियो कांफ्रेंसिंग करती हैं. इसकी उपयोगिता और सुविधा को देखते हुए इसे क़ानूनी मान्यता भी प्राप्त हैं. यदि हम कुछ बड़ी ई-कॉमर्स कंपनियों की बात करें, तो आज इनमें सबसे बड़ी कंपनी हैं – फ्लिपकार्ट, जिसे इसी क्षेत्र की एक दूसरी कंपनी अमेज़न द्वारा कड़ी टक्कर दी जा रही हैं.

 

  • मनोरंजन का साधन [Entertainment] -: इंटरनेट का प्रयोग मनोरंजन के लिए भी व्यापक रूप से किया जाता हैं. इंटरनेट पर पूरे विश्व की फ़िल्में, सीरियल, जोक्स, कंप्यूटर गेम्स, सोशल मिडिया और न जाने क्या – क्या हमारे मनोरंजन के लिए उपलब्ध हैं.

 

  • डाटा शेयरिंग –: इंटरनेट के माध्यम से आप किसी भी व्यक्ति या संस्था या किसी कंपनी को आवश्यक डाटा या कोई फाइल भेज सकते हैं. वर्क फ्रॉम होम जैसी कार्य प्रणालियों में इसी के माध्यम से कार्य किया जाया हैं.

 

  • ऑनलाइन बुकिंग –: आज अगर आपको कही जाना हैं, तो आप उस स्थान पर पहुंचकर बुकिंग करने की बजाय इंटरनेट के द्वारा बुकिंग करके जाना अधिक पसंद करते हैं, इससे आपके समय और साधन की तो बचत होती ही हैं, साथ ही आप अनावश्यक रूप से होने वाली परेशानियों से भी बच जाते हैं. इनमें ऑनलाइन ट्रेन और बस के टिकट की बुकिंग, फिल्म आदि के शो की बुकिंग, होटल बुकिंग, आदि शामिल हैं.

इंटरनेट कैसे काम करता है ? (internet kese kaam karta hai )

दोस्तों आजके दिन में हम सभीके लिए internet एक बहुत बड़ा अबदान है.अबदान तोह है लेकिन इंटरनेट किस तरह से कम करता है और कैसे बना है उसके बारे में सोचने के लिए बहुत कम लोग ही होंगे.लेकिन आप आगर यह जानना चाहते है की internet किस तरह से काम करता है

तोह पुरे पोस्ट को पढ़े.दोस्तों में कुछ बैगानिको के research किया हुआ reports से हाम सब आभी आसानी से internet के बारे में जान सकते है.internet यह   कंप्यूटर का worldwide नेटवर्क है जोह टेलीफ़ोन wires और satalite से जुड़ा होता है.अगर आपको आसान तरीके से समझना है तोह आप इसके 2 हिस्से में करते है.पहला server होता है जाहापार सारे information होता है और येही से सारे information दुसरे सर्वर के साथ शेयर होता है.

और आप इंसान यह इनफार्मेशन वोही से पा सकता है.दूसरा हिस्सा होता है browser अगर आप उस server की अन्दर जोह भी इनफार्मेशन है उससे देखने के लिए browser का इस्तेमाल करते है उसके लिए आपके पास internet explore,google chrome,firefox mozila का होना जरुरी होता है.जब भी आप आपना कंप्यूटर नेट को कनेक्ट करते है उस वक्त आप आपके पास जोह भी आपका internet service provider है

जैसे कोई भी telicominuaction कंपनी या कोई इन्टरनेट provide करने वाला कंपनी के साथ server को connect करता है.जिससे हाम isp कहते है और उस डाटा service provider का server आपके ब्राउज़र के मदत से बाकी नेट से जुड़ जाता है.एक डाटा सर्विस provider से काफी सारे browser connect होता है.

internet service provider को हर किसी के browser से जोह भी request मिलता है जैसे ईमेल देखना,या किसी वेबसाइट में विजिट करना तोह वोह server के पास कोई भी information नहीं होता तोह वोह server डाटा के बाकी server से जुड़ जाता है.internet server वोह information उस particuler email या website के server से जुड़ जाता है उससे host srever भी कहते है.

 इंटरनेट के क्या लाभ  है ? (internet ke kya laabh hai)

  • ऑनलाइन बिल Online Bills

    इंटरनेट की मदद से आसानी से हम घर बैठे अपने सभी बिलों का भुगतान कर सकते हैं।इंटरनेट पर हम क्रेडिट कार्ड या नेट बैंकिंग की मदद से कुछ ही मिनटों में बिजली, टेलीफोन, डीटीएच, या ऑनलाइन शॉपिंग के सभी  बिलों का भुगतान कर सकते हैं।

  • सूचना भेज और प्राप्त कर सकते हैं Send and receive information

    भले ही आप विश्व के किसी भी कोने में बैठे हो एक जगह से दूसरी जगह कई प्रकार की जानकारियाँ या सूचना कुछ ही सेकंड में भेज और प्राप्त कर सकते हैं। आज इंटरनेट पर वॉइस कॉल, वॉइस मैसेज, ईमेल, वीडियो कॉल, कर सकते हैं और साथी कई प्रकार के अन्य फाइल भी भेज सकते हैं।

  • 4. ऑनलाइन शॉपिंग Online Shopping

    अब लोगों को बार-बार दुकान जाने की आवश्यकता  भी नहीं है क्योंकि अब आप घर बैठे इंटरनेट की मदद से ऑनलाइन शॉपिंग कर सकते हैं और बिना कोई मोल-भाव  किए सस्ते दामों मैं सामान खरीद सकते हैं। ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट की मदद से आज सिर्फ आप सामान खरीद सकते हैं बल्कि आप चाहें तो अपने परिवार और रिश्तेदारों को गिफ्ट भी भेज सकते हैं।

  • ऑनलाइन नौकरी की जानकारी व आवेदन Online job details and Application

    अब नौकरियों के लिए आवेदन और जानकारी प्राप्त करना भी बहुत आसान हो गया है।अब आप आसानी से घर बैठे जॉब पोर्टल वेबसाइट की मदद से किसी भी नौकरी के विषय में जान सकते हैं और उनके वेबसाइट पर जाकर नौकरी के लिए आवेदन भी कर सकते हैं।

 इंटरनेट की क्या हानि है ? (internet ki kya haaniyan hai )

  • समय की बर्बादी Waste of time

    जो लोग इंटरनेट को अपने ऑफ़िस के काम के लिए और जानकारी लेने के लिए उपयोग करते हैं उनके लिए तो इंटरनेट बहुत लाभदायक होता है परन्तु जो लोग बिना किसी मतलब इसे अपनी आदत बना लेते हैं उनके लिए यह समय की बर्बादी के अलावा और कुछ नहीं। हमें इंटरनेट को समय के अनुसार उपयोग करना चाहिये ।

  • इन्टरनेट फ्री नहीं होता है Internet is not free

    इंटरनेट का कनेक्शन तभी हमें लेना चाहिए जब हमें इसकी ज़रुरत हो क्योंकि लगभग सभी इंटरनेट प्रदान करने वाली कंपनियां इंटरनेट का भारी चार्ज लेते हैं। अगर आपको इंटरनेट की आवश्यकता ज्यादा नहीं पड़ती है तो आप कोई प्री-पेड इंटरनेट सर्विस ले सकते हैं जिसकी मदद से आप जब चाहें तब रिचार्ज करवा कर इंटरनेट का उपयोग कर सकते हैं।

  • शोषण, अश्लीलता और हिंसक छवियां Exploitation and pornography and violent images

    इंटरनेट पर संचार की गति बहुत तेज़ है। इस लिए लोग अपने किसी दुश्मन या जिसको बदनाम करना चाहते हों उसने विषय में ऑनलाइन गलत प्रचार करके शोषण और अनुचित लाभ उठाते हैं। साथ ही इंटरनेट पर कई ऐसे वेबसाइट हैं जिन पर अश्लील चीजें हैं जिनके कारण कम उम्र के बच्चों को गलत शिक्षा मिल रही है।

  • पहचान की चोरी, हैकिंग, वायरस और धोखाधड़ी Identity theft, hacking, viruses, and cheating

    क्या आपको पता है आप जिन भी वेबसाइट पर अपना अकाउंट रजिस्टर करते हैं उनमें से लगभग 50-60% कंपनियां आपके निजी जानकारियों को बेचती हैं या उनका दुरुपयोग करती है। कुछ लोग इंटरनेट की मदद से आपके जरूरी जानकारियों को भी हैक कर सकते हैं।

    अभी हाल ही में विश्व भर के कई कंप्यूटर पर Ransomware Attack हुआ था

    इंटरनेट की लत और स्वास्थ्य प्रभाव Internet Addiction & Health Effects

    जिसमें कई लोगों का करोड़ों का नुक्सान हुआ। इंटरनेट के माध्यम से ही हमारे कंप्यूटर और मोबाइल फ़ोन पर वायरस आने का ख़तरा रहता है इसलिए एक अच्छा एंटीवायरस प्रोटेक्शन का होना बहुत ज़रूरी होता है।

  • स्पैम ईमेल और विज्ञापन Spam emails and Advertisements

    इंटरनेट से लोगों की निजी जानकारियाँ और Email Id को चुरा कर कई धोखेबाज़ कंपनियां झूठे ईमेल भेजती हैं जिनसे वो उन्हें ठकते हैं। उन ही ईमेल का रिप्लाई भेजें जिनकी आपको आवश्यकता है। अनजाने ईमेल को तुरंत स्पैम (Spam) की लिस्ट में भेज दें या delete कर दें। कुछ भी ईमेल के लिंक से ना खरीदे , हमेशा किसी बड़ी शॉपिंग वेबसाइट पर सीधे जाकर समान खरीदे।

मुझे उम्मीद है की आपको internet kya hai ? और इंटरनेट का अविष्कार कब हुआ ? artical जरूर  अच्छा लगा होगा  और इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करे ताकि आपके दोस्त इंटरनेट के बारे , में जान सके आपके मन में इस आर्टिकल को लेके कोई भी doubts  तो plz  मुझे कॉमेंट लिख  सकते है जय हिन्द जय भारत |

 

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *