कंप्यूटर

mouse किसे कहते है ? mouse कितने प्रकार के होते है ?

नमस्कार दोस्तों , स्वागत है आपका allhindiway में , आज हम बात करंगे की mouse kya hai ? आज के इस टाइम में बहुत से लोग कंप्यूटर का इस्तमाल कर ही रहे होंगे तो आप ये भी जानते होंगे की कंप्यूटर माउस क्या है ? और माउस कितने प्रकार के होते है माउस को हिंदी में क्या बोलते है ? माउस कैसे काम करता है  ?  आप के सभी सवालों के जवाब जाने हिंदी में।  दोस्तों अगर आप नहीं जानते तो घबराने की कोई जरूरत नहीं आज हम इसी topic पर बात करने वाले है

कंप्यूटर के साथ और भी devices आप ने देखे होंगे जैसे monitor , keyboard ,speaker , etc  ऐसे ही कंप्यूटर के साथ माउस को अपना स्थान मिला हुआ है।  जो की हमारे कंप्यूटर की स्क्रीन पर कंट्रोल करता है तो अगर आप भी माउस लेना चाहते है तो पहले इसके प्रकार आदि सब जान ले।

आप को यह तो पता ही होगा की हमारे चारो इंटरनेट और technolgy ने हमें घेर रखा है और टेक्नॉलजी के बिना हमारी गतिवधियां नहीं चल सकती क्यों की technology की वज़ह से हमारे काम जल्दी होते है और टाइम की भी बहुत बचत हो रही है और इसकी कारण हम अपने कामो को बहुत जल्द कर पा रहे है।

क्या आपको पता है कंप्यूटर को चलाने के लिए सबसे जरुरी चीज क्या है ? अगर आप ने mouse सोचा है तो बिलकुल सही सोचा है।  क्यों की हम जितना भी काम कंप्यूटर में करते है उसको mouse के जरिये ही सभाला जाता है।  तो इसलिए आपका mouse के बारे में जानना बहुत ही जरुरी है तो चलिए अब हम पहले बात करते है की mouse kya hai ? 

mouse kya hai ?

 mouse kya hai ?(माउस क्या है ?)

Mouse  एक input device है जो कंप्यूटर के screen के पॉइंटर या कर्सर को control करता है. इस पॉइंटर के जरिये हम कंप्यूटर के अंदर files, folders और दूसरे सभी ऑप्शन को खोलने, off करने, एक जगह से दूसरे जगह ले जाने, उनकी जानकारी लेने मेंउपयोग करते हैं.

एक साधारण माउस में दो button होते हैं जिसे Left Click और Right Click के नाम से जाना जाता है इन buttano के प्रयोग को जरूरत के हिसाब से एक दूसरे से बदला भी जा सकता है Mouse का use मुख्य रूप से Screen पर Items को सेलेक्ट करने के लिए किया जाता है। और आपने देखा हो तो माउस के बीच में एक गोल button भी होता है जिसे scroller (स्क्रोलर) बोला जाता है वो फाइल्स को ऊपर निचे करने के काम आता है।

जिस तरह एक इंसान में दिमाग, दिल, हाथ, पैर, आँख, कान, मुंह आदि होता है और सबके लिए एक अलग काम fix है और हर काम बहुत महत्पूर्ण है, उसी तरह computer में इंसानो के अंगों के जैसा ही अलग अलग काम के लिए अलग अलग parts होते हैं.कंप्यूटर के अंदर किसी चीज़ को पकड़ना, उठाना, move करना इन कामों के लिए ही Mouse का उपयोग करते हैं. ये बिलकुल computer के अंदर  भी हमारे लिए हाथ पैर के जैसा काम करता है। अब यह तो अच्छे से समझ ही गए होंगे की mouse क्या है ? अब हम बात करंगे mouse कितने प्रकार के होते है ?

– जानिए कंप्यूटर क्या है ? 

mouse कितने प्रकार के होते है ?

वैसे तो आज कल आपको market में बहुत तरहा के माउस मिल जायँगे हैं और इनके look, interface और connectivity के आधार पर इनको अलग अलग भागो में बांटा गया है. Desktop computer में सबसे ज्यादा आजकल USB Port  होने की वजह से Optical mouse इस्तेमाल किया जाता है. Laptop में इस के रूप में touch pad का उपयोग होता है.  तो चलिए जान लेते हैं की mouse kitne parkar के होते है ? इसके बारे में भी आपको विस्तार से बताएंगे।

Mechanical mouse 

Mechanical माउस का आविष्कार सन 1972 में Bill English ने किया था इस प्रकार के mouse के अंदर metallic या रब्बर की ball लगी रहती है

जब हम इस रब्बर ball को Pad पर रखकर किसी भी साइड में घुमाते हैं तो mouse के अंदर sensor लगे रहते हैं जो कि mouse की movement को detect या catch करते हैं तो computer screen पर X या Y axis में mouse पॉइंटर move करता है , इस प्रकार के mouse बहुत पहले प्रयोग में किये जाते थे पर अब इनके स्थान पर आज कल Optical mouse  का प्रयोग हो रहा हैं।

Optical Mouse

ये  light source का उपयोग करते हैं जिसमे LED और light detector भी होते हैं. जो surface related movement को light के जरिये detect करती है. इसके पहले प्रयोगे होने वाले mechanical mouse का ये standard रूप है. इसमें की maintenance करने की जरुरत बहुत कम होती है.

जब हम माउस को pad पर scrol करते हैं तो mouse का pointer कंप्यूटर screen पर हिलता हुआ दिखाई देता है और mouse में light जलती हुई दिखाई देती है इस प्रकार के mouse में USB Port होता है जिसकी मदद से desktop में आसानी से attache कर सकते हैं इन्हें mechanical mouse की तरह इसमें कोई भी किसी तरह की परेशानी नहीं होती है।

Cordless (Wireless )

इस प्रकार का mouse बिना cable का होता है इसलिए इसे cordless mouse का नाम दिया गया है इस तरह के माउस radiofrequency technique पर आधारित होते है और ये इन्हें ही follow करते है wireless mouse का प्रयोग करने के लिये हमारे पास transmitter और receiver होना चाहिए transmitter को mouse में ही लगाया जाता है तथा receiver को अलग से कंप्यूटर में attach किया जाता है इस तरह के wireless mouse में electric तो रहती नहीं हैं इसके लिये एक छोटी बैटरी या छोटे रिमोट के सेल्ल की जरूरत होती है जिसे अलग से जोड़ना पड़ता है।  इस तरह से यह mouse काम करता है।

Trackball

trackball कुछ optical mouse की तरह होता है बस इसमें track ball का उपयोग किया जाता है trackball का प्रयोग computer में input देने के लिये हमें अपनी अंगुली या अंगूठे की हेल्प से ball को स्क्रॉल करना पड़ता हैं इस mouse की speed high होती हैं जिसे आसानी से cantrol करने के में टाइम लगता हैं। इनका प्रयोग ज्यादातर leptop ,mobile  किया जाता है।

Stylus mouse

इस प्रकार के mouse को ‘g’ stick mouse के नाम से भी बोला जाता है क्योंकि इसमें ‘g’ का means Gordan होता है इसका आविष्कार Gordan Stewart ने किया  था ये पेन की तरह होते हैं इसप्रकार के mouse में पहिया wheel का प्रयोग होता है जिससे wheel को ऊपर नीचे स्क्रॉल किया जा सकता है अधिकतर  इसका प्रयोग Touch screen devices में किया जाता है। यह माउस भी काफी चर्चित है।

mouse का उपयोग और विशेषताएं क्या है ?

अब हम आपको mouse को कैसे इस्तेमाल किया जाता है यह भी बता दे ताकि आपको mouse का उपयोग करते समय किसी भी तरह से कोई परेशानी न हो तो चलिए हम इससे भी विस्तार से जान लेते है।

  1. mouse में दो या तीन button होते हैं mouse  के button से हम किसी भी webpage पर click कर सकते हैं mouse  से एक बार right click करने पर menu bar open होता हैं उसके अंदर cut, copy, past आदि के option आते हैं।
  2. mouse  से किसी भी file पर डबल click करके open कर सकते हैं file को select करके उसमें काम कर सकते हैं और file को ड्रैग कर खींच सकते हैं। mouse  को किसी file पर तीन पर click करके पैराग्राफ को सेलेक्ट कर सकते हैं।
  3. mouse  को फ्लैट surface पर घुमाने से कर्सर या pointer को किसी भी साइड में move कर सकते हैं इसकी हेल्प से किसी भी file पर दो बार click करने से open कर सकते हैं।
  4. mouse के ऊपर wheel होता हैं जिसको ऊपर नीचे स्क्रॉल करने से किसी भी पेज को scroll यानी ऊपर नीचे कर सकते हैं इस प्रक्रिया को scrolling बोला जाता हैं।
  5. mouse का महत्वपूर्ण कार्य जब हम mouse pointer को किसी भी file या folder पर रखने से हमें उस file या folder की details में साडी जानकारी प्राप्त कर सकते  हैं।
  6. mouse  का प्रयोग हम किसी भी file या folder पर right click करके जैसे, copy, cut, open,past, rename, properties आदि काम देख कर सकते हैं।
  7. mouse  pointer की help से किसी भी file या folder को press रखने से उसे एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाया जा सकता है।
  8. mouse  के wheel वाले button को अपनी ओर खींचने पर webpage को ऊपर की ओर सरका सकते हैं तथा file या webpage को नीचे की तरफ खिसकाने के लिये wheel को बाहर की तरफ घुमाया जाता  हैं।
  9. आजकल desktop computer में ज्यादातर सभी जगह USB port वाले Optical mouse  का प्रयोग किया जा रहा है जिससे हम आसानी से हाथ में पकड़ सकते है। जैसा की आपने माउस के प्रकार mouse kya hai ? माउस की विशेषताएं आदि सब जान गए होंगे। अब हम बात करेंगे की माउस कैसे काम करता है ?  

mouse kaise kam karta hai ?

दोस्तों जब कोई पहली बार mouse काम करते हुए देखता है तो shoked होता है की आखिर ये यह काम कैसे करता है जैसा बाहर move करते हैं वैसा ही computer screen में कैसे move करता है. इसीलिए मन में ये जानने की इच्छा होती है की आखिर ये क्या technology है जिसकी वजह से ये ऐसा काम करने में माहिर होता है.तो हम इसको बी विस्तार से जानेगे।

Roller ball  के काम करने का तरीका ? 

आखिर ये  roller काम करता है? जब हम roller को अपने pad के ऊपर में move करते हैं तो ये अपनी वजन की वजह से ये निचे आने लगता है और इसके दूसरी तरफ  में लगे 2 plastic rollers को धक्का लगाती है जो पतले wheels से जुडी हुई  होती है.

जिन में से एक wheel ऊपर और निचे(Y- axis) के movement को detect करती है और दूसरी wheel side to side movement को detect करती है जिसे (X – axis ) movement भी बोलते  हैं. अब यहाँ सवाल यह आता है की ये आपके हाथ के movement को इतनी accurately कैसे जान लेता है.इसका भी जवाब है।

जब आप इस को move करते हैं तो इससे rollers move होते हैं जो एक या फिर दोनों wheels को move करते हैं. जब आप mouse को ऊपर सीधा move करते हैं तो ये Y-axis का wheel move होता है.

वही जब right side move  करते  X – axis wheel move होता है।  लेकिन जब हम किसी angle या तिरछा move करते हैं तो फिर दोनों wheels move होते हैं. इस तरह से हमको exact movement computer के screen में नज़र आती है.

इस की एक ख़ास बात ये है की हर wheel एक प्लास्टिक  का बना हुआ होता है.

इस  की सबसे बड़ी समस्या ये है की इसे सभी तरह के surface में इस्तेमाल नहीं कर सकते हैं. इसके लिए एक special  pad की जरुरत पड़ती है जिस पर roller आसानी से move करता रहे

जब ये wheel घूमता है तो light beam को break करता है. जितनी बार ये wheel घूमेगा उतनी बार beam टूटता है. तो जितनी बार beam टूटता है उसकी शुद्ध गिनती करने से पता चलता है की आपने Pointer को कितनी दूरी तक move कर सकते है.

Measuring और counting करने के लिए एक microchip लगा हुआ होता है  cable के माध्यम से computer को सारी जानकारी भेजता है. उसी जानकारी के आधार पर computer का softwear  screen में cursor को move करता है.

Optical Mouse kaise kam karta hai ? 

Optical Mouse ,  roller ball से काम करने का बिलकुल अलग तरीका है . इस तरह में इस के निचले हिस्से में एक LED लाइट  लगा हुआ होता है जिससे की  shining light निकलती है जो सीधे इसके सतह के निचे desk  तक जाती है. इसके बाद होता ये है की Light desk से टकराकर return आती है जो इस के अंदर ही LED लाइट  के बगल में लगे photocell तक जाती है.

Photocell के सामने में ही एक लेंस लगा हुआ होता है जो वापस आ रहे light को magnify करता है ताकि hand movement को और अच्छे से detect करपाए . जैसे जैसे आप इस को मूव करते हैं reflected light का pattern change होता रहता है. इसके अंदर लगा हुआ chip से यह पता लगता है की हम अपने hath से इस  को किस direction में मूव कर रहे हैं.

किसी Optical  में 2 LED’s लाइट  लगे हुए होते हैं. एक LED से निचे की तरफ light shine करती है जो desk  तक जाती है. जिससे की cursor का movement होता है. दूसरों LED लाइट से निकलने वाली light पीछे की हैजिस यह पता लगता है की यह काम करती ह या नहीं।

Wireless Mouse kaise kam karta hai ? 

Wireless mouse  में काम करने को लेकर कुछ अलग नहीं होता ये भी बाकि की तरह ही हाथ के movment का पता लगाकर काम करती है. इसमें फर्क सिर्फ ये है की ये computer तक अपना सारा data भेजने के लिए किसी भी केबल का उपयोग नहीं करते हैं.

इसके लिए wireless connectivity काउ पयोग  करता है.  इसके लिए USB cable की जगह ज्यादातर Bluetoothकरते है जैसा की आप पहले से ही जानते हैं की USB cable सिर्फ data ही नहीं बल्कि power भी लेकर इस तक जाता है जिससे उसे काम करने के लिए पर्याप्त power मिल जाता है. लेकिन Bluetooth में cable नहीं होता इसीलिए इसमें power के लिए इस में battery या सेल्ल का प्रयोग किया जाता है.

बेटरी होने के कारन इस माउस का वजन थोड़ा ज्यादा होता है. इसके अलावा  Bluetooth में batteryज्यादा होती है  तो battery लगातार बदलनी पड़ती है।  इस की सबसे बड़ी समस्या ये है की इसमें अलग से battery का प्रयोग करना पड़ता है. खासकर Bluetooth के इस्तेमाल होने की वजह से battery life ज्यादा समय तक नहीं चल पाती. Battery के use होने की कारण से  का वजन भी ज्यादा होता  है.

 

mouse me kitne button hote hai ?

वैसे आप ने यह तो देखा ही होगा की mouse में तीन बटन होते है एक Scroll बटन होता है. जो ऊपर मीचे घूमता है और दो साइड में होते है right और left में होते है।

  1. Left Button
  2. Right Button
  3. Scroll Wheel & Button

mouse कैसे बना होता है ?  (mouse design)

माउस के डिज़ाइन अलग अलग हो सकते है माउस बहुत ही प्रकार के होते है।  जैसा की आपने पहले पढ़ा होगा माउस में प्रयोग होने वाले parts भी अलग हो सकते हैं में आपको basic माउस के बारे में बताने जा रहा हु।

Buttons 

आज कल उपयोग किये जाने वाले लगभग हर माउस में आपनेदेखा होगा   कम से कम 3 button तो  होते हैं. एक होता है Left side  Button और दूसरा होता है Right side  Button . जिसका उपयोग  कर हम किसी भी file सारे काम कर लेते हैं. तीसरा होता wheel के साथ का button जिसे smooth scrool के लिए use करते हैं.अब बात आती है mouse wheel की।

Mouse Wheel

आजकल के Desktop mouse में wheel जरूर लगा हुआ होता है क्योकि हमpage में scroll up और scroll down इसका मतलब ऊपर निचे करने में आसानी हो।

Ball, LED or Laser

इस के बहुत प्रकार में ball या roller का use किया जाता है जिसे normally हम mechanical माउस के नाम से जानते हैं. और इस प्रकार में Laser या LED का use होता है उसे हम Optical mouse के नाम से जानते हैं. इन roller और LED की वजह से ही हमे  pointer को track करने में हेल्प मिलती है।

Cable or Wireless receiver

कंप्यूटर से जोड़ने  के लिए इस में wire को  दिया जाता है. आज के अधिकतर डिवाइस में cable connectivity के लिए USB port दिया हुआ होता है. और अगर आप wireless device के उपयोग करते हैं तो इसके लिए हमको एक wireless port की आवश्कता होती है.

mouse को कब और किसने बनाया है ?

mouse का आविष्कार 1963 ईस्वी में Douglas Carl Engelbart (1925-2013) ने किया था जो की एक American engineer और inventor थे. जब उन्होंने इस mouse  को बनाया था उस टाइम वह Xerox Parc Corporation नामक एक कंपनी  में काम किया करते थे.

mouse kya hai ?
mouse के खोजकर्ता

शुरुआत के टाइम में तो इस के इस्तेमाल को लेकर user के मन में संदेह था लेकिन 1984 के बाद से ये इतना पॉपुलर हुआ की आज इसका उपयोग computer में कितना किया जा रहा है ये आप देखा ही रहे हैं. माउस के बिना कंप्यूटर पर काम करना बहुत ही मुश्किल हो गया है।

mouse को हिंदी में क्या बोलते है ?

जैसा की हमने आपको पहले भी बता दिया है की इस input devise की बनावट बिलकुल चूहें के जैसी होती है. दो आँख दो बटन को रिप्रेजेंट करते हैं  और इसकी पूंछ इसके वायर यानि तार को रिप्रेजेंट करती है इसीलिए अगर इसे चूहा बोले जाये तो बिलकुल बोल सकते है।

mouse ke touchpad को क्या बोलते है ?

माउस के touchpad को हम , trackpad ,glidepad , glidepoint आदि बोलते है

touchpad क्या होता है ?

Touchpad computer हार्डवेयर का एक input डिवाइस होता है। जिसे आप लैपटॉप या अपने स्मार्टफोन में प्रयोग करते है। लैपटॉप में आप mouse की जगह इसका उपयोग कर सकते हो। … लैपटॉप में कर्सर को move करने में इसका use किया जाता है।

अंत में,

मैं  आपसे उम्मीद करता हूँ की अब आपको माउस क्या है ? और इसे कैसे चलाते हैं ?  अच्छे से समझ में आ गया होगा. साथ ही ये भी जान गए होंगे की mouse के कितने प्रकार होते है ?. और  mouse कैसे काम करता है ? 

दोस्तों आप सभी से निवेदन है की मेरे इस लेख को आप अपने दोस्तों रिस्तेदारो , पड़ोसियों सभी के भेजे ताकि वह भी mouse क्या है ? इस सवाल से वाकिब हो सके और इसी तरह वो भी जान सके और जागरूक हो।

और मुझे भी आप सभी लोगो की support की आवश्कता है, ताकि में भी आपके लिए हररोज़ एक नई जानकारी पहुचाता रहु।  और अगर आपको इस मेरे लेख में कुछ बी doubts है तो मुझे कमेंट करके जरूर बातये ताकि मुझे गलती सुधारने का मौका आपसे से मिल सके धन्येवाद ,     जय हिन्द ,जय भारत ,

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *