शतरंज खेल का आविष्कार किसने किया था ? शतरंज कैसे खेलते है ?

शतरंज का आविष्कार किसने किया था ? शतरंज कैसे खेलते है ?

दोस्तों आज हम बात करने वाले है शतरंज खेल की दोस्तों आप सभी ने शतरंज खेल के बारे में तो सुना ही होगा क्या आप जानते है शतरंज खेल का आविष्कार किसने किया था ? नहीं तो चिंता करने की कोई जरुरत नहीं है.

क्योकि आज हम जानेंगे की शतरंज का आविष्कार कब और किसने किया था। शतरंज एक ऐसा खेल है जिसमें बच्चे क्या, बूढ़े क्या हर तबके और उम्र के लोग खेलने में माहिर होते हैं। आपकी बारह साल की बेटी भी आपको इस खेल में हरा सकती है।

दोस्तों आप सभी जानते है हमने देखा भी है और सुना भी है की बहूत से खेल होते है कुछ खेल शारीरिक होते हैं। और कुछ खेल मानसिक होते हैं कुछ खेल तकनीकी सहायता से खेले जाते हैं लेकिन हम बात कर रहे है शतरंज के खेल की जो खेलने से दिमाग भी काफी तेज होता है और खेलने में भी मज़ा आता है।

दोस्तों हो सकता है आप शतरंज खेल न खेलते हो या कभी नहीं खेला हो अगर आपने आज तक शतरंज माहि खेला है तो आप इस गेम इंटरनेट पर भी खेल सकते हो आज हम आपको शतरंज का इतिहास हिंदी में ? बतायंगे और अगर आप भी शतरंज गेम खेलना चाहते है तो आपको इस लेख को पूरा पढ़ना होगा। तो चलिए जानते है बिना देरी किये।

shatranj kya hai ?

दोस्तों आपको बता दे की शतरंज गेम एक ऐसा गेम है जिसे खेलने से अच्छा तो लगता ही है इसे खेलने के साथ साथ आपका दिमाग भी तेज़ होता है। आपको बता दे की शतरंज के खेल में काले और सफेद खानों से मिलकर एक बोर्ड बना होता है। जिसमे जिसमें 64 खाने होते हैं। इसमें 32 तो सफ़ेद होता है और 32 ही काले रंग के होते है।

और इसमें सभी खानो में अलग अलग गोटियां रखी जाती है। और आपको बता दे की उन गोटियों को राजा, रानी, घोड़े, हाथी, प्यादे, आदि के नाम से पुकारा जाता है।

दोस्तों आपको बता दे की शतरंज खेल का नाम सिर्फ सुनने में ही आसान लगता है अगर आप इस गेम को खेलते हो तो यह खेलने में बहुत ही कठिन खेल है। इस गेम को खेलने के लिए पहले आपको सीखना पड़ेगा अगर आपको सीखना है तो आप ऑनलाइन कंप्यूटर के माध्यम से भी सिख सकते है।

दोस्तों वैसे तो हमने भोत से खेलो के बारे में सुना होगा जो शारारिक बल से खेले जाते है लेकिन यह एक जगहे पर बैठ कर खेले जाने वाला गेम है जिसे सिर्फ दो व्यक्ति आपस में मिलकर खेलते है इसे खेलने में बहुत ज्यादा दिमाग दौड़ाया जाता है।

और आपको बता दे की शतरंज के पिता Wilhelm Steinitz को माना जाता है। आपको बता दे की बहुत समय पहले शिहराम नाम के राजा हुआ करता था तो वह एक निरंकुश था। तो उस समय राजा के के दिमाग को परखने के लिए वही के आस पास के किसी एक ने शतरंज खेल का निर्माण किया था

यह भी पढ़े- Internet का अविष्कार कब हुआ ?                                                                                           computer का अविष्कार कब हुआ था  ? 

shatranj ka avishkar kisne kiya ?

दोस्तों आपको बता दे की शतरंज का आविष्कार किसने किया यह बता अभी तक पूर्ण रूप से सिद्ध नहीं हो पायी है। लेकिन सूत्रों के अनुसार बताया जाता है की शतरंज का आविष्कार छठी सताब्दी में.भारत में ही हुआ था। और आपको बता दे की आज का मॉडर्न chess हमारे पुराने खेल चुतुरंग से लिया गया है.

जो उस टाइम में बहुत ही पॉपूलर था और आपको पता लग ही गया होगा की शतरंज बहुत ही दिमाग से खेलने वाला खेल है दुनियां में वैसे तो और भी बहूत गेम है लेकिन शतरंज खेल की बात ही कुछ और है।

shatranj aviskar kis desh mein hua tha

दोस्तों अब हम बात करेंगे की शतरंज खेल का आविष्कार किस देश में हुआ ? जैसा की हम आपको पहले भी बता चुके है की शतरंज का आविष्कार भारत में ही हुआ है। और आपको बता दे की शतरंज असल में चतुरंग खेल से प्रेरित है.और चतुरंग खेल भारत से ही फारसी देशों में गया था. वहां जाने के बाद ये जाना गया की वहां के राजा को शाह बोला जाने लगा तो

और इसी शाह से ही इसका नाम शतरंज पड़ गया.और आज हम सभी जो इस खेल को Chess के नाम से जानते है।

भारत में शतरंज का इतिहास

जैसा की माना जाता है कि शतरंज के खेल का आविष्कार भारत में होने के बाद यह पारसी देशों में प्रचलित हुआ, इसके बाद पूरे विश्व में पहुंचा। भारत में शतरंज खेलने की शुरुआत भी पांचवी-छठी शताब्दी के समय से मानी जाती है।

जब इस खेल की शुरुआत भारत में हुई थी तब यह पहला खेल था जो दिमाग के इस्तेमाल से खेला जाता था। किंवदंतियों के अनुसार शतरंज का आविष्कार गुप्त काल के समय में हुआ।

दोस्तों आपको बता दे की महाभारत के समय में पांडव और कौरव पुत्रों के बीच शतरंज का खेल खेला गया था। लेकिन हुआ ऐसे की गुप्त काल के राजाओं ने चौसर के खेल के नाम को बदल कर शतरंज के खेल की शुरुआत की थी। शतरंज का आविष्कार कब हुआ था तब उसे पहले इस नाम की बजाए चतुरंग खेल के नाम से जाना जाता था।

शतरंज खिलाड़ियों के नाम हिंदी में

दोस्तों अब हम आपको उन खिलाड़ियों के नाम बताने जा रहे है जोकि विश्व प्रसिद्ध शतरंज खिलाड़ी जिन्होंने वैश्विक स्तर पर अपने देश का नाम रोशन किया तो चलिए जानते है

  1. विश्वनाथन आनंद
  2. दिव्येंदु बरुआ
  3.  बी. रवि कुमार
  4. आरती रामास्वामी
  5. पी.हरिकृष्ण
  6. मैनुएल ऐरोन
  7. कोनेरू हम्पी
  8. शुभम यादव

shatranj kaise khelte hain hindi mein

दोस्तों जैसे की मैंने पहले भी आपको बताया है की इस गेम एक बोर्ड के ऊपर 64 खाने बने होते है जिसमे 32 तो सफ़ेद होते है और 32 ही काले होते है।

इस गेम दो खिलाडी होते है जो आमने सामने बैठते है औरदोनों खिलाड़ियों के पास राजा, वजीर, दो हाथी, दो घोड़े, दो ऊंट और आठ सैनिक भी होते हैं। इस गेम के नियम के अनुसार सफ़ेद खाने वाला खिलाडी पहले गेम चालू करता है।

और आपको बता दे की इस खेल में कोई समय सिमा तय नहीं होती। अगर आप फुल इस गेम के बारे में जानना चाहते है तो आप इस वेबसाइट पर विजिट करके सीख सकते है chess.com

शतरंज खेलने के फायदे ?

दोस्तों यहाँ आपको इस खेल के फायदे भी बताये जाये गए जो की खेलने से बिलकुल प्रभाव पड़ता है तो चलिए जानते है chess ke fayde क्या है।

  • दोस्तों इसमें प्लानिंग, विश्वास, अनुशासन सीखने को मिलता है।
  • और इसके साथ साथ यह खेल फैसले लेने की क्षमता का विकास करता है।
  • आपको बता दे की शतरंज अच्छे से सोचने और खोज करने की प्रवृत्ति को भी तेज करता है
  • यह गेम भविष्य के बारे में सोचने की छमता को बढ़ाता है।
  • और आपको बता दे की अगर आप इस गेम को खेलते है तो आपकी गणित और विज्ञान विषयों पर अच्छी पकड़ बनती है।

आखिर में,

उम्मीद करता हु दोस्तों आप से शतरंज खेल का आविष्कार किसने किया था ? आपको यह लेख अच्छे से समझ आया होगा। दोस्तों अगर आपके मन कोई और भी सवाल आता है तो आप हमसे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है।

और दोस्तों आपसे निवदेन करता हु की इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ भी सोसियल मीडिया पर जररु शेयर कीजिये जिस से हमें भी आपका सपोर्ट बन रहे और हम आपके लिए रोज़ाना कुछ न कुछ नई जानकरी लाते रहे धन्येवाद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here