Web hosting क्या है ? hosting कैसे खरीदें ?

web hosting kya hai
allhindiway

नस्कार दोस्तों allhindiway  में आपका स्वागत है दोस्तों  अगर आप यह जानना चाहते की web hosting kya hai ? तो आपको घबराने की बिलकुल भी जरूरत नहीं है आप बिलकुल सही जगह पर पहुचे है इस आर्टिकल में आपको simple और hindi में जानने को मिलेगा की होस्टिंग किसे कहते है ? और web hosting kaise buy karte hai ?

जब हम इंटरनेट पर कोई ब्लॉग या वेबसाइट बनाना चाहते हैं तो इसके लिए हमें डोमेन नेम (Domain Name) के साथ-साथ वेब होस्टिंग (Web Hosting) की जरुरत भी पड़ती है

और अगर इसके बारे में पूरी और सही जानकारी लिए बिना ही आप कोई भी वेब होस्टिंग खरीद लेते हैं तो ये आपके लिए घाटे का सौदा होसकता है।तो चलिए अब हम web hosting ke bare me jante hai

यह भी पढ़े ⇒  domain name kya hai 

Web hosting kya hai ?

हमारे website पर जो भी चीजें होती है जैसे files, video, image आदि web hosting पर ही होती है। अगर हम  कोई भी website बनाते है तो हमारी  वेबसाइट के फाइल्स वीडियो इमेज को रखने के लिए एक वेब होस्टिंग लेना होता है।

आप hosting के रूप में अपने computer का भीऊपयोग कर सकते हैं लेकिन इसके लिए आपके पास 24 घंटा बिजली कनेक्शन इंटरनेट कनेक्शन उपलब्ध होने चाहिए।

क्योंकि जब भी आपका computer बंद हो जाया करेगा और आपके site पर कोई visit करना चाहेगा तो वह नहीं कर सकता  क्योंकि आपका कंप्यूटर रूपी web hosting बंद पड़ा है।

इसीलिए हम दूसरे कंपनियों से web hosting खरीदते हैं क्योंकि वो सिर्फ वेब होस्टिंग का ही व्यापार करती है और इसके लिए नेट और बिजली का कनेक्शन al ltime avialable करवाती है

सरल भाषा में आप ये समझ लीजिए जैसे हमारा computer होता है कंप्यूटर में Ram, Rom processor इत्यादि होते हैं वैसे ही हम कहीं से भी web hosting खरीदते हैं

तो वह एक कंप्यूटर के जैसा ही होता है जहां पर हम अपने फाइल्स वीडियो इमेज को रखते हैं। आपको यह तो समझ आ ही गया होगा की web hosting kya hai ? अब हम बात करेंगे इसके प्रकार की की web hosting kitne parkar ki hoti hai ?

Web hosting kitne parkar ki hoti hai ?

तो दोस्तों जैसा की आप ने पहले जान ही लिया होगा की web hosting kya hai ? तो अब आपको यह भी पता होना चाहिए की ये कितने प्रकार की होती है वैसे तो web hosting के अनेक प्रकार है पर हम इस artical में उन्ही hosting के बारे में जाने गए जो ज्यादा popular है इस टाइम में|

और आप यह भी चिंता न करे की hosting kaise kharide ? इसके बारे में भी जरूर बातयेगे इस आर्टिकल को पूरा पढ़ना  तो चलिए अब जानते है | web hosting 4 प्रकार की होती है

  1. Shared web  hosting  (शेयर्ड वेब होस्टिंग) 
  2. vps web hosting (virtual private server) (वर्चुअल प्राइवेट सर्वर वेब होस्टिंग)
  3. Dedicated  web Hosting (डेडिकेटेड  वेब होस्टिंग) 
  4. Cloud web Hosting  (क्लाउड  वेब होस्टिंग ) 

Shared  hosting क्या है ? (शेयर्ड वेब होस्टिंग)

अब हम step by step सभी hosting के बारे में जानेगे तो पहले बात आती है Shared web  hosting kya hai ? example के रूप जाने तो जैसे की हम कही  study करने या job करने बहार जाते है

तो बहार रह करके हम rent पर room लेके रहते है | तो वाह पर हम और भी room patner के साथ रूम share करते है तो Shared  web hosting भी उसी प्रकार काम करती है

शेयर्ड वेब होस्टिंग में एक सर्वर पर एक साथ कई सारी वेबसाइट की फाइल को स्टोर करके रखा जाता है इसलिए इससे  शेयर्ड वेब होस्टिंग के  के नाम से जाना जाता है |
उस कंप्यूटर के सभी रिसोर्सेज जैसे प्रोसेसर, रैम और हार्ड डिस्क सभी वेबसाइट मिलकर इस्तेमाल करते हैं लेकिन यह इसी वजह से यह होस्टिंग सभी होस्टिंग के मुकाबले सस्‍ती होती है
लेकिन इसके कुछ नुकसान भी है यह तब तक ठीक है जब तक आपकी वेबसाइट नई है और इस treffic काम अत है अगर किसी वजह से किसी वेबसाइट पर  treffic ज्यादा आ जाये  तो उसका असर और उस होस्टिंग पर होस्‍ट की गई सभी वेबसाइट पर पड़ता है यानी अगर कोई एक वेबसाइट धीमी होती है.
या डाउन होती है तो सभी वेबसाइट डाउन होते जाएंगे डाउन होने का मतलब है उन सभी वेबसाइट के पेजों कोमें ज्यादा time लगने लग जायेगा , लेकिन ऐसा बहुत कम होता है यह एक ही कमरे एक से ज्यादा रहने जैसा है जो की imposibale है |

Shared Hosting के फायदे

  • Shared hosting को use करना एवं इसका set up करना काफी सरल होता है
  • New website के लिए यह hosting अच्छा होता है।
  • Shared Hosting की कीमत भी बहुत कम होती है इस hosting को आप आसानी से afford कर सकते है
  • इस hosting का cantrol panel भी  यूजर फ्रैंडली होता है

Shared Hosting के नुकसान

  • जिसे की example एक ही रूम में कई सारे दोस्त रहते हैं तो उसमे आपको जगहा कम मिलने से problem का सामना करना पड़ेगा।
  • आप ही सोचो अगर एक cpu server बहुत सारे use करते है तो इसका parformace गिरता बढता रहता है।
  • इसकी secuirty भी कुछ ख़ास अच्छी नहीं होती।
  • और सारि company इस hosting को सपोर्ट नहीं करती है।

VPS hosting क्या है ? (वर्चुअल प्राइवेट सर्वर वेब होस्टिंग)

अगर vps hosting को example के रूप में देखे तो यह अपना खुद का seprate room लेना जैसा है। अगर separte room लेते है तो वहा सिर्फ और  सिर्फ सब चीजों पर आपका अधिकार होता है। इसमें और कोई भी join नहीं कर पाता , इस Hosting में  dedicated server होता है जिससे इसकी securityअच्छी  होती है वह performance भी अच्छा मिल पाता है ।

वर्चुअल प्राइवेट सर्वर, यानी बीपीएस, शेयर्ड होस्टिंग की अगली कैटेगरी है। यह अपेक्षाकृत महंगी पड़ती है और इसका कारण बड़ा साफ है कि अगर आप अपने 1 डोमेन के लिए बीपीएस इस्तेमाल करते हैं.

तो उसे कोई और शेयर नहीं कर सकता।अगर आपके site पर एक हजार से ज्यादा traffic आ रहा है तो फिर आपको VPS hosting लेना चाहिए क्योंकि फिर आपको RAM भी ज्यादा चाहिए एवं CPU की processing power भी ज्यादा चाहिए।

अगर आप shared hosting चला रहे हैं और आपके site पर traffic बढ़ने लगता है तो फिर आप VPS hosting में स्विच करा सकते हैं।इसके डाउन होने की संभावना अपेक्षाकृत कम रहती है।

हालाँकि, यह पूरी तरह डेडिकेटेड नहीं होता है।तो अगर आप blogging को गंभीरता से ले रहे हैं एवं ब्लॉगिंग में कैरियर बनाना चाहते हैं तो फिर आप VPS hosting से ही स्टार्ट करिए।

vps  hosting के फायदे

  • इस hosting मे आपको बेहतर performance use करने को मिलता है
  • इस hosting में आपको पूरी तरह से control मिलता है जो की  dedicated server में मिलता है।
  • VPS मे आपकी website or files किसी दूसरी website के साथ share नहीं होती इसलिए ये प्राइवेसी  सभाल के रहती है |
  • VPS server मे आप की मशीन के रिसोर्स किसी और website user के साथ share नहीं होते इसलिए आपके पास dedicated RAM, storage होती है जिसको website पूरी तरह utilize कर सकती है |
  • अगर आप VPS की जगह अपना खुद का सर्वर प्रेफर करना चाहते हैं तो आपकोजान लेना चाहिए की एक पूरे सर्वर के मुकावले यह काफी सस्ता होता है। इसमें आपको मेंटेनेंस के खर्च की चिंता करने की भी कोई जरूरत नहीं।

vps  hosting के नुकसान

  • ज़्यदातर VPS छोटी organization या वो users use करते है जो की कम price मे dedicated hosting के benefits लेना चाहते hai लेकिन VPS के कुछ disadvantages भी है
  • VPS की बात करें तो इसमें भी हमें कई  कमियां देखने को मिलेंगी जैसे की इसमें सबसे पहली कमी की बात करें तो वह यह है की आपको इसमें सबकुछ खुद संभालना  पड़ता है.
  • और अगर आपको इसके बारे में पूरी जानकारी नहीं है यह hosting ठीक से मैनेज ना होने की बजह से कई सारे सर्वर्स हैक हो जाते हैं।

Dedicated  Hosting क्या है ? (डेडिकेटेड  वेब होस्टिंग)

यहां पर एक website के लिए एक सर्वर अलग से निर्धारित किया जाता है और उसके सारे रिसोर्सेज केवल एक ही वेबसाइट इस्तेमाल करती है यह web Hosting बहुत ही ज्यादा treffic वाली website  के लिए अच्छी होती है.
जैसे अगर आपकी कोई भी कमर्शियल वेबसाइट है जिस पर बहुत ज्यादा treffc आता है तो आप Dedicated  web Hosting  को ले सकते हैं।
जितने भी बड़े-बड़े साइट है जैसे Flipkart, Amazon, Snapdeal इत्यादि यह dedicated hosting पर अपनी site को होस्ट करते हैं।
Dedicated hosting का जो sarvar होता है वह सिर्फ एक ही website के files को स्टोर करता है इसलिए इसकी स्पीड सबसे तेज होती है लेकिन ये costly यानी महंगा होता है।

Dedicated  Hosting के  फायदे

  • सबसे बड़ा फायदा ये है की ये hosting जितने भी high treffic को हैंडल कर सकता है।
  • ये hosting बहोत ही ज्यादा secure  होता है।
  • Dedicated  Hosting,  high parformance देता है। 
  • ये Hosting ज्यादा stable होता है।

Dedicated  Hosting के नुकसान

  • यह होस्टिंग सभी hosting से महँगा पड़ता है।
  • Dedicated  Hosting को संभालने के proper tecnical knowledge होना जरुरी है।
  • dedicated hosting में कुछ ऐसे बड़े-बड़े problem होते हैं जिसको हम खुद से solve नहीं कर पाते हैं तो इसके लिए हमें technician को रखना पड़ता है।

Cloud Hosting क्या है ?(क्लाउड  वेब होस्टिंग )

cloud hosting क्या है ? अब हम इसके बारे में जानेगे क्लाउड होस्टिंग कई सारे वेब सर्वर का एक ग्रुप होता है जो अलग-अलग देशों में स्थापित होता है इन सभी होस्टिंग को इंटरनेट से जोड़ दिया जाता है

और यहां पर आपके अनुरोध पर एक वर्चुअल सर्वर क्रिएट किया जाता है जिसे क्लाउड सर्वर कहते हैं।

Cloud hosting पर आप unlimited website बना सकते हैं आपके पास में जितने भी छोटे बड़े blog या website है आप उन सबको एक cloud hosting लेकर उस पर host कर सकते हैं।

cloud hosting को आप VPS का upgrade version मान सकते हैं एवं आप इसे update भी कर सकते हैं अपने वेबसाइट के सर्वर पर, उदाहरण के लिए आपको 2,GB चाहिए 4, GB, 8 .GB जितना भी चाहिए आप उतना में अपग्रेड कर सकते हैं। cloud hosting में server के डाउन होने के बहुत काम chance रहते है।

Cloud hosting के फायदे

  • cloud hosting में server के डाउन होने के बहुत काम chance रहता है क्योकि सभी चीजे cloud में होती है।
  •  इस hosting में कितनी भी website बना सकते है।
  • यह hosting ज्यादा से ज्यादा treffic को afford कर लेती है।

Cloud hosting के नुकसान

  • यह hosting और सभी hosting से महंगी होती है।
  • इस hosting में  root access को उपलब्ध नहीं करवाती है।

Linux hosting क्या है ? (लाइनेक्स होस्टिंग)

जब आपको web  hosting किसी ऐसेweb  server के कंप्यूटर पर मिलती है जिसमें लाइनेक्स ऑपरेटिंग सिस्टम इनस्टॉल होता है तो ऐसी लाइनेक्स को  web  hosting बोलते है।
क्योंकि लाइनेक्स ऑपरेटिंग सिस्टम एक ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर है यानी यह सभी के लिए मुफ्त में मिल जाता है तो इस hosting सर्विस को देने में कंपनियों को कम लागत आती है और यह आपके लिए भी सस्ती होती है।

विंडोज होस्टिंग क्या है ? ( Windows hosting )

इसी प्रकार जिन web  hosting  कंप्यूटर्स में विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम होता है Windows hosting कहते हैं अब क्योंकि Windows फ्री नहीं है hosting कंपनी को Windows के लिए लाइसेंस खरीदना पड़ता है।
इसलिए यह उस दिन लाइनेक्स web  hosting  के मुकाबले महंगी होती है और यही वजह है कि ज्यादातर ब्लॉग और वेबसाइट लाइनेक्स web  hosting  पर ही host  किए जाते हैं।
अब आप यह तो जान ही गए होंगे की web hosting  kya hai ? वह आपने इसके प्रकारो  को भी  अच्छी तरहा से जान गए होंगे।  अब जैसा की बात आती है hosting kaise kharide ? तो चलिए अब हम इस topic के ऊपर बात करते है।

WEB hosting कैसे खरीदें ?

जैसा की आपने सब पड ही लिया होगा की web hosting  kya hai ? hosting कितने प्रकार की होती है  अब आपको  यह जरूर जानना चाहिए की आप hosting buy kese karen ?  तो चलिए अब हम आपको step by step जानकारी देते है।

मोबाइल या कंप्यूटर में लगने वाला स्टोरेज डिवाइस बहुत सस्ता होता लेकिन वेब होस्टिंग के लिए हर साल पैसा भरना होता है. इसके कई कारण हैं. वेब होस्टिंग भी एक तरह का स्टोरेज ही है लेकिन, इसमें कई चीज़ होती है और इन्हीं वजहों से यह महंगी होती है।

वेब होस्टिंग खरीदने से पहले कई पहलुओं पर ध्यान देना होता है क्यूंकि बार बार इसे बदलना संभव नहीं है. जब भी होस्टिंग खरीदते हैं पूरे साल का पैसा देना होता है. ऐसे में हमेशा अच्छी होस्टिंग ही खरीदें.

दुनिया में ऐसी बहुत सी company  है, जो  अच्छी Web Hosting Provide करती है, Hosting Server जितना अच्छी होगी और जिस country के लिए वेबसाइट है यदि Server भी उसी country  में है तो वेबसाइट फ़ास्ट लोड होगी.तो जैसे की हम india से है।

तो india की बहुत company जो hosting provide करवाती है। इसका समय micro second  में होता जो इन्सान को पता नहीं चल पता है. लेकिन System को पता चल जाता है।

यह Google Ranking Factor भी है. सिर्फ वेबसाइट लोड होना ही नहीं बल्कि, Server Quality पर भी  निर्भर करता है.और कुछ ऐसे कंपनी के नाम आपको बता रहा हु जिस से आप hosting खरीद सकते है।

Best web hosting company कोनसी है ?

अब देखे step by step hosting kaise kharide ? 

  1. आप जिस भी कंपनी से hosting लेना चाहते हो उस website पर visit करे जो की आपको ऊपर बताया है ↑
  2. hosting लेने से पहले यहाँ Domain का नाम डालना होगा किस Website के लिए hoting खरीद रहे हैं.
  3. अब आपको उसमे add to cart पर click करना होगा hosting आपके acount में add हो जाएगी।,
  4. अब hosting का जो भी amount होगा उससे आप online pay कर दे payment करते ही hosting aco. login  हो जयेगा अब उसमे आप अपनी किसी भी website को host कर ले। .
  5. तो ऐसे आप simply hosting खरीद सकते है।

Web Hosting काम कैसे करती है ?

दोस्तों  आपके मन जरूर ये सवाल होगा की web hosting kam kaise karta hai ? इसके बारे में भी आप इस artical में simply से जान पाएंगे।

web hosting  वे कंपनियां हैं जो internet पर वेबसाइटों की मेजबानी के लिए अपनी सेवाओं और प्रौद्योगिकियों को किराए पर देती हैं. एक बार जब hosting  company आपकी website को host करती है, तो उपयोगकर्ता इसे अपने web browser  में अपने वेब पते (domain name ) में टाइप करके एक्सेस कर सकता हैं.

जब वे ऐसा करते हैं, तो उनका कंप्यूटर उस सर्वर से जुड़ जाता है जिस पर आपकी website host की जाती है. बदले में server आपके web browser में आपके web visiter के लिए website पर काम करता है (आपके द्वारा स्टोर की गई फाइलों को प्रदर्शित करने के लिए स्टोर करता है).

दोस्तों उम्मीद करता हु आपको आपके सभी सवालो के जवाब अच्छे से मिल गए होंगे जैसे की web hosting kya hai ? hosting कितने प्रकार की होती है ?  hosting कैसे ख़रीदे ? कहा से खरीदे।

आपने ये सब अच्छे से जान लिया होगा और artical को अपने दोस्तों  सभी के साथ share करे ताकि वो web hosting के बारे में जान सके धन्येवाद।  जय हिंद , जय भारत ,

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here